Monday, 16 August 2010

याक़ूब मोहसिन

साहेबान आदाब
पेश है शम-ए-अदब
इसमें आसपास मौजूद साथी शायरों का कलाम पेश किया जायेगा.
शुरूआत











जनाब  या़क़ूब मोहसिन
की  इस ग़ज़ल से
मुलाहिज़ा फ़रमाएं

हम कैसे बहादुर हैं दुनिया को दिखाना है
दुश्मन जो वतन के हैं उन सबको मिटाना है

वो लाख करे कोशिश इक इंच नहीं देंगे
सरहद से बहुत आगे दुश्मन को भगाना है

जो तोप के गोलों से बिल्कुल भी नहीं सहमे
उन वीरों की हिम्मत का कायल ये ज़माना है

इतरा के न चल इतना मग़रूर न बन इतना
दो ग़ज़ की ज़मीं है वो जो तेरा ठिकाना है

तुम मिलके बिछड़ने का अहसास न कर लेना
हमको तो शहादत का ये शौक पुराना है

हिम्मत से हर इक मुश्किल आसान हुई मोहसिन
दुश्मन को मिटाने का बस अज़्म बनाना है

शायर: याक़ूब मोहसिन

29 comments:

  1. स्वागत है. बहुत सुन्दर प्रयास है ये आपका. आज जब पूरी दुनिया केवल अपने बारे में सोच रही है, ऐसे में दूसरों के बारे में न केवल सोचने बल्कि उन्हें समने लाने की कोशिश करने वाला ये ब्लॉग नई मिसाल पेश करेगा.

    इतरा के न चल इतना मग़रूर न बन इतना
    दो ग़ज़ की ज़मीं है वो जो तेरा ठिकाना है

    बस इस सच को ही यदि याद रखा जाये तो शायद बहुत सी बुराइयां स्वत: ही समाप्त हो जायें.

    तुम मिलके बिछड़ने का अहसास न कर लेना
    हमको तो शहादत का ये शौक पुराना है

    बहुत सुन्दर शेर, मोहसिन साहब और आप बधाई के पात्र हैं. ढेरों शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  2. इतरा के न चल इतना मग़रूर न बन इतना
    दो ग़ज़ की ज़मीं है वो जो तेरा ठिकाना है

    ज़िंदगी की हक़ीक़त जिसे कभी झुठलाया नहीं जा सकता

    तुम मिलके बिछड़ने का अहसास न कर लेना
    हमको तो शहादत का ये शौक पुराना है

    वाह! क्या बात है!
    शहादत के साथ शौक़ का इस्तेमाल ,बहुत ख़ूब!

    शाहिद साहब बहुत बहुत शुक्रिया इस सार्थक ब्लॉग के लिए

    ReplyDelete
  3. मोहसिन भाई,
    बेहतरीन ग़ज़ल कही आपने।
    आपके जज्‍़बे पर एक मत्‍ले का शेर अर्ज़ है कि:
    क्‍या साथ मे लाये थे, क्‍या साथ में जाना है
    दुनिया में हरइक सिम्‍त हमें अम्‍न बसाना है।

    ReplyDelete
  4. इतरा के न चल इतना मग़रूर न बन इतना
    दो ग़ज़ की ज़मीं है वो जो तेरा ठिकाना है
    आदरणीय शाहिद सहाब,
    आपके इस सुन्दर प्रयास की जीतनी प्रसंशा की जाए कम है ......इस जतन हेतु बहुत बहुत धन्यवाद !
    मोहसिन साहब की ये ग़ज़ल देशभक्ति की भावनाओं से लबरेज़ बहुत ही गहरा प्रभाव छोड़ती है पाठक पर ......मोहसिन साहब का अभिवादन और ढेरों बधाई !

    ReplyDelete
  5. इतरा के न चल इतना, मगरूर न बन इतना
    दो गज की ज़मीं है वो, जो तेरा ठिकाना है

    वह-वा !!
    बहुत ही खूबसूरत शेर कहा है जनाब ने ... वाह !!
    ग़ज़ल के बाक़ी शेर भी असरदार हैं
    मोहसिन साहब से तआरुफ़ करवाने के लिए बहुत बहुत शुक्रिया
    और जनाब-ए-मोहसिन साहब को सलाम

    ReplyDelete
  6. शाहिद जी,
    बहुत ही सराहनीय कदम और हम सब के लिए सौभाग्य की बात, अब और नए अशआर से मुखातिब होने का अवसर मिलेगा. फिलहाल मोहसिन जी को बहुत बहुत बधाई. गहरा प्रभाव छोडती ग़ज़ल.

    ReplyDelete
  7. तुम मिलके बिछड़ने का अहसास न कर लेना
    हमको तो शहादत का ये शौक पुराना है

    बहुत बढ़िया गज़ल...शाहिद जी आपका यह प्रयास बहुत बढ़िया है..

    ReplyDelete
  8. शाहिद भाई, बहुत नेक काम का बीड़ा उठाया है आपने. मोहसिन साहब का पुख्ता कलाम देखकर बहुत सुकून का एहसास हुआ. मैं जिन अशआर को कोट करना चाहता था, बकिया लोगों ने भी उन्हें ही हदफ़ मुकर्रर कर लिया, लिहाज़ा कापी-पेस्ट का इरादा मुल्तवी.
    मोहसिन साहब को मेरा शुक्रिया पहुंचाएं और आपसे तवक्को कि ऐसे ही साहिब-इ-फन हजरात से मुतआरिफ कराते रहेंगे.

    ReplyDelete
  9. शाहिद जी आपका ये प्रयास बहुत अच्छा है हमे भी सब की गज़लें पढने का अवसर मिलेगा। मोहसिन भाई की गज़लें बहुत अच्छी लगी\
    वो लाख करे कोशिश इक इंच नहीं देंगे
    सरहद से बहुत आगे दुश्मन को भगाना है

    जो तोप के गोलों से बिल्कुल भी नहीं सहमे
    उन वीरों की हिम्मत का कायल ये ज़माना है

    इतरा के न चल इतना मग़रूर न बन इतना
    दो ग़ज़ की ज़मीं है वो जो तेरा ठिकाना है
    वाह वाह क्या बात है। शुभकामनायें

    ReplyDelete
  10. इतरा के न चल इतना मग़रूर न बन इतना
    दो ग़ज़ की ज़मीं है वो जो तेरा ठिकाना है

    वाह...सुभान अल्लाह...वाह...याकूब साहब की बेहतरीन ग़ज़ल हम तक पहुँचाने के लिए आपका तहे दिल से शुक्रिया...आप बहुत सबब का काम कर रहे हैं ऐसे बहुत से अज़ीम शायर हैं जो बहुत अच्छा कहते हैं लेकिन उनका कहा बहुत अधिक लोगों तक नहीं पहुंच पाता... वजह कोई भी हो...आपके इस नेक काम से हम ऐसे ही बेजोड़ शायरों से समय समय पर रूबरू होने की आस लगाये बैठे हैं...
    गुज़ारिश है के शायर के कलाम के साथ साथ आप उनका छोटा सा तार्रुफ़ भी कराएँ ताकि पता चले के शायर कहाँ का है और कैसा है...शुक्रिया...
    आज जब सब अपनी ढपली पीटने में मसरूफ हैं ऐसे में किसी दुसरे की बात करना हिम्मत का काम है...मेरा एक शेर है:-
    राग अपने और अपनी ढपलियां
    पीठ दूजी थपथापाता कौन है
    मुझे इस सवाल का जवाब मिल गया है....शाहिद मिर्ज़ा.

    नीरज

    ReplyDelete
  11. वो लाख करे कोशिश इक इंच नहीं देंगे
    सरहद से बहुत आगे दुश्मन को भगाना है
    जो तोप के गोलों से बिल्कुल भी नहीं सहमे
    उन वीरों की हिम्मत का कायल ये ज़माना है..

    वाह! अपने बहुत ही शानदार और उम्दा ग़ज़ल लिखा है जिसके बारे में कहने के लिए अल्फाज़ कम पर गए! आपकी लेखनी को सलाम!

    ReplyDelete
  12. wallah!!! kya baat hai
    वो लाख करे कोशिश इक इंच नहीं देंगे
    सरहद से बहुत आगे दुश्मन को भगाना है
    जो तोप के गोलों से बिल्कुल भी नहीं सहमे
    उन वीरों की हिम्मत का कायल ये ज़माना है..

    ReplyDelete
  13. बहु बढ़िया गज़ल है|

    ReplyDelete
  14. इतरा के न चल इतना मग़रूर न बन इतना
    दो ग़ज़ की ज़मीं है वो जो तेरा ठिकाना है
    तुम मिलके बिछड़ने का अहसास न कर लेना
    हमको तो शहादत का ये शौक पुराना है
    आपकी पसन्द आपकी कलम की तरह शानदार है ,कोशिश वाकई जानदार है .ढेरो बधाईयां इस नई शुरुआत के लिये .

    ReplyDelete
  15. भाई शाहिद मिर्ज़ा जी
    आदाब !
    आपका कार्य प्रशंसनीय है , वंदनीय है ।
    हर पोस्ट का इंतज़ार रहा करेगा ।
    जनाब या़क़ूब मोहसिन साहब की ग़ज़ल मत्ले से मक़्ते तक
    क़ाबिले-ता'रीफ़ है ।
    बड़ी मेहरबानी , उन तक मेरी मुबारकबाद पहुंचाएं ।

    शस्वरं पर आपका हार्दिक स्वागत है , समय मिले तो आइएगा …

    - राजेन्द्र स्वर्णकार
    शस्वरं

    ReplyDelete
  16. वो लाख करे कोशिश इक इंच नहीं देंगे
    सरहद से बहुत आगे दुश्मन को भगाना है

    जो तोप के गोलों से बिल्कुल भी नहीं सहमे
    उन वीरों की हिम्मत का कायल ये ज़माना ह

    Moahsin bhaee kamal kee gajal hai her sher la jawab.Shahid bhaee aapka shukriya inse parichay karane ke liye.

    ReplyDelete
  17. ब्लाग जगत की दुनिया में आपका स्वागत है। आप बहुत ही अच्छा लिख रहे है। इसी तरह लिखते रहिए और अपने ब्लॉग को आसमान की उचाईयों तक पहुचइये मेरी यही शुभकामनाएं है आपके साथ
    हमारे ब्लॉग पर आपका स्वागत है।
    मालीगांव
    साया
    आपकी पोस्ट यहा इस लिंक पर भी पर भी उपलब्ध है। देखने के लिए क्लिक करें
    लक्ष्य

    ReplyDelete
  18. प्रशंसनीय शुरुआत के लिए बधाई !आगे भी ऊँचाइयाँ छूती रहे !

    ReplyDelete
  19. ब्‍लागजगत पर आपका स्‍वागत है ।

    किसी भी तरह की तकनीकिक जानकारी के लिये अंतरजाल ब्‍लाग के स्‍वामी अंकुर जी,
    हिन्‍दी टेक ब्‍लाग के मालिक नवीन जी और ई गुरू राजीव जी से संपर्क करें ।

    ब्‍लाग जगत पर संस्‍कृत की कक्ष्‍या चल रही है ।

    आप भी सादर आमंत्रित हैं,
    http://sanskrit-jeevan.blogspot.com/ पर आकर हमारा मार्गदर्शन करें व अपने
    सुझाव दें, और अगर हमारा प्रयास पसंद आये तो हमारे फालोअर बनकर संस्‍कृत के
    प्रसार में अपना योगदान दें ।
    धन्‍यवाद

    ReplyDelete
  20. वो लाख करे कोशिश इक इंच नहीं देंगे
    सरहद से बहुत आगे दुश्मन को भगाना है

    इतरा के न चल इतना मग़रूर न बन इतना
    दो ग़ज़ की ज़मीं है वो जो तेरा ठिकाना है

    बहुत खूबसूरत शेर हैं....

    ReplyDelete
  21. नायाब ग़ज़ल
    शुक्रिया

    ReplyDelete
  22. Subhan alla ... kya kamaal ki gazasl hai ... har sher jaise khilta huva Gulab bhaarat maata ke charno mein ....

    ReplyDelete
  23. हिंदी ब्लाग लेखन के लिए स्वागत और बधाई
    कृपया अन्य ब्लॉगों को भी पढें और अपनी बहुमूल्य टिप्पणियां देनें का कष्ट करें

    ReplyDelete
  24. इस नए और सुंदर से चिट्ठे के साथ आपका हिंदी चिट्ठा जगत में स्‍वागत है .. नियमित लेखन के लिए शुभकामनाएं !!

    ReplyDelete
  25. मोहसिन भाई,
    इस बेहतरीन ग़ज़ल के लिए आपकोबहुत बहुत मुबारकबाद!!

    ReplyDelete
  26. Wah, is naye blog ke liye aap ko jitani badhaee den kum hai. Aur shayar mohsin bhee kee shayri bhee gazab.

    हम कैसे बहादुर हैं दुनिया को दिखाना है
    दुश्मन जो वतन के हैं उन सबको मिटाना है

    वो लाख करे कोशिश इक इंच नहीं देंगे
    सरहद से बहुत आगे दुश्मन को भगाना है

    ReplyDelete